Shayari

अभी वो आँख भी सोई नहीं है अभी वो ख़्वाब भी जागा हुआ हैं| हमने करवट बदल के भी देखा, उस तरफ भी तुम याद आती हो |     Disclaimer: not my own creation.