कुछ मेरी कलम से …

दिवार पर बनी एक आकृति हूँ, मेरा क्या वज़ूद, बस एक पुताई काफी है, मुझे मेरी औकात बताने को | Thanks for reading.God bless you!

Advertisements